July 21, 2024

WAY OF SKY

REACH YOUR DREAM HEIGHT

हैविंगहर्स्ट का नैतिक विकास सिद्धांत

हैविंगहर्स्ट का नैतिक विकास सिद्धांत

havighurst moral development theory

 

हैविंगहर्स्ट ने नैतिक विकास के सिद्धांत में पांच अवस्थाये बताई है |

  1. पूर्व नैतिक अवस्था (0-2 वर्ष) – इसमें बालक को अच्छे बुरे का ज्ञान नही होता है , ये नैतिक विकास की पूर्व की अवस्था है |
  2. स्व केन्द्रित अवस्था (2-7 वर्ष)– इस अवस्था में बालक का नैतिक विकास नहीं होता है , लेकिन वह सही – गलत बताने लगता है | इसमें बालक अपनी ही बात को सही बताता है और यदि कोई उन्हें टोक दे या रोक दे तो उससे गलत बताता है , बालक का व्यवहार अहंवादी होता है |
  3. परम्परा को धारण करने वाली अवस्था (7-12 वर्ष)- इस अवस्था में बालक का नैतिक विकास प्रारंभ हो जाता है , बालक सही – गलत, उचित – अनुचित का भेद सीख जाता है |
  4. आधारहीन आत्म चेतना अवस्था – (7-12 वर्ष) – इस अवस्था में किशोर आधारहीन व खोखले आदर्शो लो बात करता है जो उससे यथार्थता के धरातल से दूर ले जाता है | इस अवस्था में किशोरो का व्यक्तित्व सिगमंड फ्रायड के सुपर ईगो(Super EGO) से नियंत्रित होता है , ये अवस्था व्यक्ति की देवदूत अवस्था (Angel in a Person) होती है |
  5. आधारयुक्त आत्मचेतना अवस्था (18 वर्ष के बाद)- बालक/व्यक्ति अपनी इस अवस्था में तर्कसंगत बाते करता, व्यक्ति न केवल भावनाओ से अपितु विचारो से भी काम लेता है |

नोट : विकासात्मक कार्यो का सर्वप्रथम समप्रत्यय हैविंगहर्स्ट ने दिया था |

हैविंगहर्स्ट का नैतिक विकास सिद्धांत || havighurst moral development theory
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x