May 19, 2022

WAY OF SKY

REACH YOUR DREAM HEIGHT

फ्रायड का मनोलैंगिक विकास सिद्धांत

फ्रायड का मनोलैंगिक विकास सिद्धांत (Freud Psychosexual Theory and stages)

फ्रायड ने अपने इस सिद्धात में काम प्रवृति को विकास का महत्वपूर्ण अंग माना , इसके लिए फ्रायड ने मनोलैंगिक विकास का सिद्धांत दिया |

लिबिड़ो (Libido)

लिबिड़ो काम शक्तियों को कहते है जिसमे सुख की अनुभूति होती है |
सिगमंड फ्रायड में अपने सिद्धांत में प्रेम , स्नेह व काम प्रवृति को लिबिड़ो कहा |
सिगमंड फ्रायड के अनुसार यह एक स्वाभाविक प्रवृति है जिसका पूर्ण होना आवश्यक है , यदि इन प्रवृतियों को दबाया जाता है तो व्यक्ति कुसमायोजित हो जाता है |

सिगमंड फ्रायड की मनोलैंगिक विकास की अवस्थाये
( Stages of Psychosexual Development)

1. मुखावस्था (oral Stage) – जन्म से 1 वर्ष
2. गुदावस्था (Anal Stage)- 1 से 2 वर्ष
3. लिंग प्रधानावस्था (Phalic Stage) – 2 से 5 वर्ष
4.अव्यक्तावस्था (latency Stage) -6 से 12 वर्ष
5. जननेंद्रियावस्था (Gental Stage) 12 वर्ष के बाद

1. मुखावस्था (oral Stage) – जन्म से 1 वर्ष

ये मनोलैंगिक विकास की पहली अवस्था है |1 वर्ष से कम आयु के बच्चे इस अवस्था में होते है | इस अवस्था में लिबिड़ो क्षेत्र “मुख” होता है ,जिसके परिणाम स्वरूप बालक में मुख से करने वाली क्रियाओ में आनंद की अनुभूति होती है जैसे काटना ,चुसना ,|
इस अवस्था में व्यक्ति में दो तरह के व्यक्तित्व विकसित होते है |
1. मुखवर्ती निष्क्रिय व्यक्तित्व (Oral Passive Personality) – आशावादिता ,विश्वास का गुण

2. मुखवर्ती /अनुवर्ती आक्रामक व्यक्तित्व (Oral Aggressive Personality) – शोषण ,प्रभुत्व, दुसरो को पीड़ा देना आदि गुण पाए जाते है |

फ्रायड ने ध्रूमपान की आदत को लिबिड़ो की अल्प संतुष्टि माना है |

2. गुदावस्था (Anal Stage)- 1 से 2 वर्ष

ये मनोलैंगिक विकास की दूसरी अवस्था है इसमें कामुकता का क्षेत्र मुख की जगह “गुदा” होता है , जिसके कारण बच्चे मल-मूत्र त्यागने और उन्हें रोकने में आन्नद की अनुभूति करते है | इसी अवस्था में बालक प्रथम बार अंतद्वंद की अनुभूति करता है |

3. लिंग प्रधानावस्था (Phalic Stage) – 2 से 5 वर्ष

ये मनोलैंगिक विकास की तीसरी अवस्था है इसमें लिबिड़ो का स्थान “जननेंद्रिय” होता है |
इस अवस्था में लड़के में “मातृ प्रेम” की उत्पति व लडकियों में “पितृ प्रेम” की उत्पति होती है | जिसका कारण फ्रायड ने लडको में “मातृ मनोग्रंथि (Oedipus Complex) ” तथा लडकियों में ” पितृ मनोग्रंथि (Electra Complex)” को बताया है |
“मातृ मनोग्रंथि (Oedipus Complex) “ के कारण लडको से अचेतन मन में अपनी माता के लिए लैंगिक प्रेम की इच्छा होती है जबकि ” पितृ मनोग्रंथि (Electra Complex)” के कारण लडकियों में अपने पिता की लिए लैंगिक आकर्षण उत्पन्न होने लगता है |

4.अव्यक्तावस्था (latency Stage) -6 से 12 वर्ष

ये मनोलैंगिक विकास की चौथी अवस्था है इसमें लिबिड़ो का क्षेत्र अदृश्य हो जाता है | ये प्रत्यक्ष नही होता है लेकिन माना जाता है की वह सामाजिक कार्यो और हमउम्र के बच्चो के साथ खेल कर अदृश्य लिबिड़ो को संतुष्टि प्राप्त करते है |

5. जननेंद्रियावस्था (Gental Stage) 12 वर्ष के बाद

ये मनोलैंगिक विकास की चौथी अवस्था है ये 12 वर्ष के बाद निरंतर चलती है | इसमें हार्मोन्स का निर्माण होने लगता है जिसके कारण से इस अवस्था में विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण होने लगता है | ये आकर्षण बहुत ही तीव्र होते है |

स्वमोह (नर्सिसिज्म)

फ्रायड के अनुसार जब बालक शैशव अवस्था में होता है तो अपने रूप पर मोहित हो जाता है और अपने आप से प्रेम करने लग जाता है |
इस प्रकार स्वमोह/आत्म प्रेम को  फ्रायड ने “नर्सिसिज्म ” शब्द दिया | 

नर्सिसिज्म बाल अवस्था में सर्वाधिक होता है |

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x