July 21, 2024

WAY OF SKY

REACH YOUR DREAM HEIGHT

इरिक इरिक्सन का मनोसामाजिक विकास सिद्धांत Psychosocial Development  Theory of Erik Erikson

इरिक इरिक्सन का  मनोसामाजिक विकास सिद्धांत Psychosocial Development Theory of Erik Erikson 

 

मनोसामाजिक विकास सिद्धांत के प्रवर्तक  इरिक इरिक्सन  थे (नव फ्रायडवादी) |

 

Books: childhood and society {1950), Identity Youth and Crisis (1968),

अन्य नाम

जीवन विस्तार सिद्धांत  (Life –Span Theory) 

पहचान की खोज 

पहचान का संकंट सिद्धांत( Theory of Identity Crisis )

 

इरिक इरिक्सन फ्रायड के साथ काम करने वाले वैज्ञानिक थे , इरिक इरिक्सन फ्रायड के विचारो से काफी हद तक सहमत थे , लेकिन एक बात पर सहमत नहीं थे(काम प्रवृति) , इरिक इरिक्सन का मानना था कि बालक के विकास पर काम प्रवृति का नहीं बल्कि सामाजिक अनुभूतियो का प्रभाव पड़ता है | अगर दुसरे शब्दों  में कहा जाये तो इरिक इरिक्सन काम प्रवृति के विरुद्ध सिद्धांत दिया जिसके कारण इरिक इरिक्सन को नव फ्रायडवादी कहा गया |

इरिक इरिक्सन ने अपनी पुस्तक childhood and society {1950) के अंर्तगत मनोसामाजिक सिद्धांत की आठ अवस्थाये बताई है, ये अवस्थाये दिध्रुवीय थी , जिसमे सकारात्मक और नकारात्मक दो प्रकार की परिस्थति को दर्शया गया है |

 

इरिक इरिक्सन के मनोसामाजिक विकास सिद्धांत की अवस्थाये 

(Stages of  Psychosocial Development Theory)

 

Sr. Noअवधिअवस्था का नाम
101 – /18 माह  (शैशवावस्था)विश्वास बनाम अविश्वास / आस्था बनाम अनास्था (Trust Vs Mistrust)
218 माह – 3 वर्ष
 (प्री- बाल्यावस्था)
स्वतंत्रता बनाम संदेह / स्वायतता बनाम लज्जा/शक
(Autonomy vs Shame and Doubt)
33-5  वर्ष (पूर्व -बाल्यावस्था)आत्मबल बनाम अपराध भाव / पहल बनाम दोष (Initiatives Vs Guilt)
45-12 वर्ष (उत्तर बाल्यावस्था)परिश्रम बनाम हीनता (Industry vs inferiority )
512-18 वर्ष (किशोरावस्था)
पहचान बनाम भूमिका द्वंद / पहचान बनाम संभ्रांति (Identity vs Role confusion )
618-35 वर्ष (पूर्व–व्यस्कावस्था)घनिष्ठाता बनाम अलगाव (Intimacy vs Isolation)
735-55 वर्ष (मध्य- व्यस्कावस्था )उत्पादकता बनाम निष्क्रियता / जननात्मकता बनाम स्थिरता (Generativity vs Stagnation )
855 के बाद (उत्तर –व्यस्कावस्था )ईमानदारी बनाम निराशा / सम्पूर्णता बनाम निराशा (Integrity vs Despair)
इरिक इरिक्सन के मनोसामाजिक विकास सिद्धांत की अवस्थाओ की सारणी

1. विश्वास बनाम् अविश्वास (Trust vs Mistrust)- 

समय  : शैशवावस्था (जन्म से 18 माह)
बच्चों को अपने माता पिता को देखकर उचित स्नेह व प्रेम मिलता है, जो उनमें विश्वास (Trust) का भाव विकसित करता है तथा जब माता 1-पिता बच्चों को रोते-बिलखते व चिल्लाते छोड़ जाते हैं, तो उनमें अविश्वास (Mistrust) की भावना विकसित हो जाती है।

2. स्वतंत्रता बनाम संदेह / स्वायतता बनाम लज्जा/शक (Autonomy vs Shame and Doubt )-

समय  : प्रारम्भिक बाल्यावस्था (18 माह से 3 वर्ष)
इस अवस्था में बालक अपने आप भोजन करना, कपड़े पहनना इत्यादि पर दूसरों पर निर्भर रहना नहीं चाहते। वह स्वतंत्र रूप से कार्य करना चाहते हैं। दूसरी तरफ बहुत सख्त माता-पिता बच्चों को साधारण कार्य करने पर भी डाँटते हैं तथा उनकी क्षमता पर शक करते हैं, जिसके कारण बच्चे अपने अंदर लज्जा अनुभव करते हैं।

3. पहल बनाम् दोष  (Initiative vs Guilt)-

समय  : (3 से 5 वर्ष) (पूर्व -बाल्यावस्था)
यह बच्चों का प्राक् स्कूली वर्ष (Pre School Years) होता है तथा ये अवधि बालक की पूर्व/ आरम्भिक बाल्यावस्था की होती है। माता-पिता बच्चों को जिंदगी के सभी क्षेत्रों में नये-नये खोज करने की प्रेरणा देते हैं, तो इसे पहल की संज्ञा देते हैं और जब माता-पिता पहल करने पर उनकी आलोचना/ दण्ड देते हैं, तो बच्चों में दोष भाव उत्पन्न हो जाता है।

4. परिश्रम बनाम् हीनता/ उद्यमिता बनाम् हीन भावना (Industry vs Inferiority)-

समय  : (6 से 12 वर्ष)
इस अवधि को उत्तरबाल्यावस्था भी कहा जाता है। जब बच्चों को पहल से उत्पन्न नई अनुभूतियाँ मिलती है। तब वह अपनी ऊर्जा को नये ज्ञान अर्जित करने में लगाते हैं, इसे परिश्रम की संज्ञा दी गई है |

5. अहम् पहचान बनाम भूमिका संभ्रांति : (Identity vs Role confusion )

समय  : 12 से 18 वर्ष तक
यह किशोरावस्था का काल है |  ऐरिक्सन का पांचवा विकासात्मक चरण है, जिसका अनुभव किशोरावस्था के वर्षां में होता है। इस समय व्यक्ति को इन प्रश्नों का सामना करना पड़ता है कि वो कौन है? किसके संबंधित है? और उनका जीवन कहां जा रहा है? किशोरों को बहुत सारी नई भूमिकाएं और वयस्क स्थितियों का सामना करना पड़ता है जैसे व्यावसायिक और रोमेंटिक। उदाहरण के लिए अभिभावकों को किशोरों की उन विभिन्न भूमिकाओं और एक ही भूमिका के विभिन्न भागों का पता लग सकता है, जिनका वह जीवन में पालन कर सकता है। यदि इसके सकारात्मक रास्ते पता लगाने का मौका न मिले तब, पहचान भ्रान्ति की स्थिति हो जाती है
 

6. घनिष्ठता बनाम अलगाव- (Intimacy vs Isolation)

समय  : 18 से 35 वर्ष
यह आरम्भिक वयस्क अवस्था/ युवावस्था की अवस्था होती है। इस अवस्था में व्यक्ति दूसरों के साथ धनात्मक संबंध (Positive Relation) बनाता है। सब व्यक्ति में दूसरों के साथ घनिष्ठता का भाव विकसित होता है, तो वह दूसरों के लिए अपने आपको समर्पित कर लेता है और जब दूसरों के साथ घनिष्ठता विकसित नहीं कर पाते हैं, तो वे सामाजिक रूप से अलग (Socially Isolated) हो जाते हैं. अर्थात् इस अवस्था में घनिष्ठता बनाम अलगाव का संघर्ष होता है।

7. उत्पादकता बनाम निष्क्रियता / जननात्मकता बनाम स्थिरता (Generativist vs Stagnation)-

समय  : 35 से 65 वर्ष
यह अवस्था मध्यवयस्कावस्था (Middle Adulthood) भी कहलाती । इस अवस्था में व्यक्ति अगली पीढ़ी के लोगों के कल्याण तथा उस समाज के लिए जननात्मक में उत्पादकता सम्मिलित करता है, लेकिन जब व्यक्ति को जननात्मकता की चिंता उत्पन्न नहीं होती, तो उसमें स्थिरता उत्पन्न हो जाती है।

8 ईमानदारी बनाम निराशा / सम्पूर्णता बनाम निराशा (Ego Integrity vs Despair)-

समय  : 65 वर्ष के बाद
इस अवस्था में 65 वर्ष के बाद से प्रारम्भ होकर मृत्यु तक की अवधि सम्मिलित होती है, इसे बुढ़ापा की अवस्था कहा जाता है। इस अवस्था में व्यक्ति अपने पहले के समय को याद करता है, कि उसने सभी अवस्थाओं की जिम्मेदारी धनात्मक रूप से पूर्ण की है या नहीं। अगर परिणाम धनात्मक होता है, तो संपूर्णता का भाव विकसित होता है और अगर परिणाम ऋणात्मक होता है, तो नैराश्य का भाव होता है |
 
 

 

मनोसामाजिक विकास सिद्धांत से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

 
  1. मनोसामाजिक विकास सिद्धांत के प्रवर्तक कौन है ?
    • इरिक इरिक्सन  (Erik Erikson)
  2. इरिक इरिक्सन  (Erik Erikson) के द्वारा प्रतिपादित सिद्धांत का नाम है ?
    • मनोसामाजिक विकास सिद्धांत (Psychosocial Development Theory)
  3. इरिक इरिक्सन  (Erik Erikson) द्वारा रचित पुस्तक का नाम है ?
    • childhood and society {1950), Identity Youth and Crisis (1968)
  4. इरिक इरिक्सन के मनोसामाजिक विकास सिद्धांत की कितनी अवस्थाये है ?
    • आठ
  5. एक बालक के विकास के लिए काम प्रवृतियों को नकार कर सामाजिक अनुभूतियो की अनुशंषा किस मनोवैज्ञानिक ने की ?
    • इरिक इरिक्सन  (Erik Erikson)
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x